- Advertisment -

Aaj Ka Shabd Nirvikar Agyeya Poem Hai Abhi Kuchh Aur Jo Kaha Nahi Gaya MEERI News

- Advertisment -
                
                                                                                 
                            'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- निर्विकार, जिसका अर्थ है- जिसमें कोई विकार न हो, जिसमें कोई परिवर्तन न होता हो, अपरिवर्तित। प्रस्तुत है अज्ञेय की कविता-  है, अभी कुछ और जो कहा नहीं गया
                                                                                                
                                                     
                            
%MINIFYHTMLa59d0bcc68ac8d177981737930dce1ef16%

है, अभी कुछ और जो कहा नहीं गया। 

उठी एक किरण, धाई, क्षितिज को नाप गई, 
सुख की स्मिति कसक भरी, निर्धन की नैन-कोरों में काँप गई, 
बच्चे ने किलक भरी, माँ की वह नस-नस में व्याप गई। 
अधूरी हो, पर सहज थी अनुभूति : 
मेरी लाज मुझे साज बन ढाँप गई— 
फिर मुझे बेसबरे से रहा नहीं गया। 
पर कुछ और रहा जो कहा नहीं गया। 

आगे पढ़ें

46 minutes ago

,

The Ultimate Managed Hosting Platform
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -